Sign In

Forgot Password

Lost your password? Please enter your email address. You will receive a link and will create a new password via email.


You must login to ask question.

Please briefly explain why you feel this question should be reported.

Please briefly explain why you feel this answer should be reported.

E-commerce in India: Market Size, Industry Overview, and Growth

E-commerce in India: Market Size, Industry Overview, and Growth

Even when they are on the go, shoppers find it convenient to shop. The expansion of eCommerce in India has a very bright future, and the widespread use of smartphones will only fuel it further. The e-commerce sector is anticipated to grow and reach a market size of US$ 188 billion by 2025 as it gains more traction. 

The expansion of stalwarts is primarily responsible for the e-commerce sector’s rise. However, a number of smaller firms are also steadily securing a niche for themselves. Additionally, the sector adopts new technologies quickly. The quick adoption of cutting-edge technology, its affordability, and its ease of use are further factors influencing the future of e-commerce.

Why is there such a huge potential for the e-commerce industry? 

Over time, the e-commerce sector will undoubtedly experience tremendous growth. The expansion will undoubtedly be driven by market leaders like Flipkart and Amazon. Other factors contributing to the growth of this industry include government legislation, M&A activity, and rising industry investments. 

Additionally, the COVID-19 pandemic crisis has given the sector a boost. The areas of clothes, food and groceries, electronics trade, and beauty and wellness will experience the majority of the rise. Additionally, notable investments by Facebook, Google, and Reliance Retail have been made in the sector.

Let’s talk about the factors that will likely cause the nation’s e-commerce sector to expand. 

1) Enhancing the User Experience 

The website’s visitors would anticipate a wonderful user experience. They would choose efficient processes that would aid them in the purchasing process. The sector has been effectively assisted by next-generation technology as it focuses on UX design, merchandise, customer service, logistics, etc. 

Technology has a big part to play and has helped customers trust businesses more. Additionally, it has contributed to ensuring that clients have a better user experience. The usage of technology makes it easier to attract the tech-savvy audience, who are constantly looking for fresh services.

2) Greater Outreach 

The current players have made more efforts to engage with the tiny town. It has benefited from the widespread use of high-speed internet connections. The development of Tier 2 and Tier 3 towns’ economies has also become crucial for the future of the eCommerce sector. 

Additionally, this market group of consumers has been addicted to online buying due to the industry’s increased frequency of freebies. Technology has also assisted this sector in adjusting to the new way of shopping. Through carefully chosen products, e-commerce platforms also find it simple to keep people glued to the site.

3) Use of digital payments has increased 

The development of mobile commerce is crucial to the future of the eCommerce sector. Studies show that 73% of eCommerce sales will take place on mobile devices globally. India is experiencing rapid development in online payments, which is positive for the country’s eCommerce industry. Making payments while on the go is becoming more and more popular with customers. Even though digital payment platforms are secure, more people are starting to use them. 

Businesses have chosen to optimise their websites for mobile use due to the industry’s rapid expansion. Many businesses have decided to use a mobile apps. Additionally, you can employ location-based advertising methods, which let you give the customer specific messaging based on where they are.

4) Additional Logistics Investment 

The eCommerce sector has been aggressively expanding its reach. Over time, they have greatly expanded the audience for pin codes. The e-commerce giants are expanding their warehouse space as they prepare for a significant rise in sales. The established firms invest in their logistics networks to keep up with this expansion as they expand their reach into the smaller communities. 

5) Increase in Several Sectors 

The e-commerce sector is expanding in several directions. While the market has traditionally been dominated by products like clothing, electronics, books, etc., other industries like grocery, FMCG, and meal delivery are also expected to grow rapidly. Traditional retailers are being attracted by the industry’s expansion, which furthers the growth narrative.


भारत में ई-कॉमर्स: बाजार का आकार, उद्योग का अवलोकन और विकास

यहां तक ​​कि जब वे चलते-फिरते हैं, तो दुकानदारों को खरीदारी करने में सुविधा होती है। भारत में ईकामर्स के विस्तार का भविष्य बहुत उज्ज्वल है, और स्मार्टफोन के व्यापक उपयोग से इसे और बढ़ावा मिलेगा। 2025 तक ई-कॉमर्स क्षेत्र के बढ़ने और 188 बिलियन अमेरिकी डॉलर के बाजार आकार तक पहुंचने का अनुमान है क्योंकि यह अधिक कर्षण प्राप्त करता है।

दिग्गजों का विस्तार मुख्य रूप से ई-कॉमर्स क्षेत्र के उदय के लिए जिम्मेदार है। हालाँकि, कई छोटी फर्में भी लगातार अपने लिए एक स्थान हासिल कर रही हैं। इसके अतिरिक्त, यह क्षेत्र नई तकनीकों को शीघ्रता से अपनाता है। अत्याधुनिक तकनीक को तेजी से अपनाना, इसकी वहनीयता और इसके उपयोग में आसानी ई-कॉमर्स के भविष्य को प्रभावित करने वाले अन्य कारक हैं।

ई-कॉमर्स उद्योग के लिए इतनी बड़ी संभावना क्यों है?

समय के साथ, ई-कॉमर्स क्षेत्र निस्संदेह जबरदस्त विकास का अनुभव करेगा। विस्तार निस्संदेह फ्लिपकार्ट और अमेज़ॅन जैसे बाजार के नेताओं द्वारा संचालित होगा। इस उद्योग के विकास में योगदान देने वाले अन्य कारकों में सरकारी कानून, एम एंड ए गतिविधि और बढ़ते उद्योग निवेश शामिल हैं।

इसके अतिरिक्त, COVID-19 महामारी संकट ने इस क्षेत्र को बढ़ावा दिया है। कपड़े, भोजन और किराने का सामान, इलेक्ट्रॉनिक्स व्यापार, और सौंदर्य और कल्याण के क्षेत्रों में अधिकांश वृद्धि का अनुभव होगा। इसके अतिरिक्त, इस क्षेत्र में फेसबुक, गूगल और रिलायंस रिटेल द्वारा उल्लेखनीय निवेश किया गया है।

आइए उन कारकों के बारे में बात करते हैं जिनके कारण देश के ई-कॉमर्स क्षेत्र का विस्तार हो सकता है।

1) उपयोगकर्ता अनुभव को बढ़ाना

वेबसाइट के आगंतुक एक अद्भुत उपयोगकर्ता अनुभव की आशा करेंगे। वे कुशल प्रक्रियाओं का चयन करेंगे जो उन्हें क्रय प्रक्रिया में सहायता करेगी। अगली पीढ़ी की तकनीक द्वारा इस क्षेत्र को प्रभावी ढंग से सहायता प्रदान की गई है क्योंकि यह यूएक्स डिजाइन, व्यापारिक वस्तुओं, ग्राहक सेवा, रसद आदि पर केंद्रित है।

प्रौद्योगिकी का एक बड़ा हिस्सा है और इसने ग्राहकों को व्यवसायों पर अधिक भरोसा करने में मदद की है। इसके अतिरिक्त, इसने यह सुनिश्चित करने में योगदान दिया है कि ग्राहकों के पास बेहतर उपयोगकर्ता अनुभव हो। प्रौद्योगिकी के उपयोग से तकनीक-प्रेमी दर्शकों को आकर्षित करना आसान हो जाता है, जो लगातार नई सेवाओं की तलाश में रहते हैं।

2) ग्रेटर आउटरीच

मौजूदा खिलाड़ियों ने छोटे शहर से जुड़ने के लिए और अधिक प्रयास किए हैं। हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्शन के व्यापक उपयोग से इसे लाभ हुआ है। ईकामर्स क्षेत्र के भविष्य के लिए टियर 2 और टियर 3 शहरों की अर्थव्यवस्थाओं का विकास भी महत्वपूर्ण हो गया है।

इसके अतिरिक्त, उपभोक्ताओं के इस बाजार समूह को उद्योग द्वारा मुफ्त उपहारों की बढ़ती आवृत्ति के कारण ऑनलाइन खरीदारी की लत लग गई है। खरीदारी के नए तरीके से तालमेल बिठाने में प्रौद्योगिकी ने भी इस क्षेत्र की सहायता की है। सावधानी से चुने गए उत्पादों के माध्यम से, ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म लोगों को साइट से जोड़े रखना भी आसान समझते हैं।

3) डिजिटल भुगतान का उपयोग बढ़ा है

ईकामर्स क्षेत्र के भविष्य के लिए मोबाइल कॉमर्स का विकास महत्वपूर्ण है। अध्ययनों से पता चलता है कि ईकामर्स की 73 फीसदी बिक्री वैश्विक स्तर पर मोबाइल उपकरणों पर होगी। भारत ऑनलाइन भुगतान में तेजी से विकास का अनुभव कर रहा है, जो देश के ईकामर्स उद्योग के लिए सकारात्मक है। चलते-फिरते भुगतान करना ग्राहकों के बीच अधिक लोकप्रिय होता जा रहा है। डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म भले ही सुरक्षित हैं, लेकिन अधिक लोग इनका इस्तेमाल करने लगे हैं।

उद्योग के तेजी से विस्तार के कारण व्यवसायों ने मोबाइल उपयोग के लिए अपनी वेबसाइटों को अनुकूलित करना चुना है। कई व्यवसायों ने मोबाइल एप्लिकेशन का उपयोग करने का निर्णय लिया है। इसके अतिरिक्त, आप स्थान-आधारित विज्ञापन विधियों को नियोजित कर सकते हैं, जो आपको ग्राहक को उनके स्थान के आधार पर विशिष्ट संदेश देने देती हैं।

4) अतिरिक्त रसद निवेश

ईकामर्स क्षेत्र आक्रामक रूप से अपनी पहुंच का विस्तार कर रहा है। समय के साथ, उन्होंने पिन कोड के लिए दर्शकों का बहुत विस्तार किया है। ई-कॉमर्स दिग्गज अपने वेयरहाउस स्पेस का विस्तार कर रहे हैं क्योंकि वे बिक्री में उल्लेखनीय वृद्धि की तैयारी कर रहे हैं। स्थापित कंपनियां इस विस्तार को बनाए रखने के लिए अपने रसद नेटवर्क में निवेश करती हैं क्योंकि वे छोटे समुदायों में अपनी पहुंच का विस्तार करते हैं।

5) कई क्षेत्रों में वृद्धि

ई-कॉमर्स क्षेत्र कई दिशाओं में विस्तार कर रहा है। जबकि पारंपरिक रूप से बाजार में कपड़े, इलेक्ट्रॉनिक्स, किताबें आदि जैसे उत्पादों का वर्चस्व रहा है, अन्य उद्योग जैसे किराना, एफएमसीजी और भोजन वितरण भी तेजी से बढ़ने की उम्मीद है। पारंपरिक खुदरा विक्रेताओं को उद्योग के विस्तार से आकर्षित किया जा रहा है, जो विकास की कहानी को आगे बढ़ाता है।

Related Posts

Leave a comment